भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मधानियाँ, ओये मेरेया डाडेया रब्बा / पंजाबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मधानियाँ,
हाय ओये मेरेया डाडेया रब्बा,
किन्ना जम्मियाँ किन्ना ने ले जाणीयाँ ।

हाय छोले,
बाबुल तेरे मैहलां विच्चों
सत रंगिया कबूतर बोले ।

हाय पावे,
बाबुल तेरे मैहलां विच्चों
ठंडी हवा पूरे दी आवे ।

हाय फीता,
ऐना सकेयाँ वीरां ने
डोला टोर के अगां नू कीता ।

हाय फीता,
ऐना सकीयां भाबियाँ ने
डोला टोर के कच्चा दुध पीता ।

हाय कलियाँ,
मावां धीयाँ मिलन लग्गीयां
चारे कंधां ने चबारे दियां हल्लियाँ