भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मनके / राजश्री

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुबह, दोपहर, शाम
खुली पलकें
ज्योतिहीन दृष्टि
मनके गिनती उगंलियाँ
जहाँ से चली
वहीं पर जा थमी।

बीज, अंकुर, फले वृक्ष,
झड़ते पत्ते
ठुमकती बयार
उड़ाते झोंके
कहां प्रारम्भ
कहां अन्त?

यात्रा, पडाव, मंजिल
बन्द पलकें
बन्द मुठ्ठी
अन्तर तलाशती दृष्टि
माला गिरी
अब खुली हथेली!