भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मनशाये-इलही पै यक़ीं आ ही चला है / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



मनशाये-इलाही पै यक़ीं आ ही चला है।
ऐ चारागरो! ज़हमते-दरमाँ कोई दिन और॥



अपना सजदा खुद गराँ महसूस होता है मुझे।
जैसे पाय-नाज़पर इक बोझ सा रखता हूँ मैं॥




ज़मीनो-आसमाँ से तंग है तो छोड़ दे उनको।
मगर पहले नये पैदा ज़मीनो-आस्माँ कर ले॥