भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मनुष्य / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आसान था कहलाना मनुष्य
मुश्किल था बनना मनुष्य
मनुष्य बनने के लिए
बरतनी पड़ती मनुष्यता
जो बहुत महँगी पड़ती
दुनियादारी के हिसाब से