भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मनोभाव / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काले मेघ भरे हुए नन्ही बूँदों से
मेरे मनोभावों की तरह
उन बुँदों को छोड़ देने का संताप
वैसे ही जैसे कई बार छूट जाती हैं हसरतें
और बह जाते है एहसास और जज्बात के रेले
उस बरसात की तरह
उमड़ती घटायें क्यों लगती हैं
मुझे मेरे मन की तरह
विरह की वेदना लिए
जो कभी खामोश
कभी बाहर आने को बेताब
मचलते जज्बातों को लेकर
जिए जा रहा है...
यह मेरा मन
काले मेघों की तरह...