भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मनोॅ के बात / अवधेश कुमार जायसवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केकरा कहियै मनोॅ के बात
जेकरा पुजलौं देवता सन हम्में
हुनिए देलकै एक आघात।
बचपन जिनकर गोदी खेलवौ,
जेहे कहलकै, वैसनै करलौं
हुनिये देलकोॅ छै बिसराय
कहतें-कहतें मनोॅ गेलोॅ लजाय।
आँखोॅ में लोर दिलोॅ में चोट।
बिन जल मछली लोटमपोट।
माइयोॅ मरलै, बापोॅ मरलै
तैय्योॅ ऐहनोॅ लोर न बहलै।
आय लागै छै, भेलोॅ अनाथ
पीर सुनोॅ हे भोलानाथ।
जाय केॅ हुनका दिहोॅ बताय
हुनके खातिर मरबै हहाय।
तैय्योॅ कहबै हुनकै ईश्वर
सर पटकै छी हम्में पत्थर पर।