भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मन-मीत चले आओ (माहिया) /रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

54
मन-मीत चले आओ
दो पल बाकी हैं
सीने से लग जाओ।
55
तन से तुम दूर रहे
पर सूने मन में
तुम ही भरपूर रहे ।
56
बस इतना जाने हैं-
इस जग में तुमको
हम अपना माने हैं।
57
जाने कब आओगे !
बाहों में खुशबू
बनकर खो जाओगे।
5
कुछ समझ नहीं आता
कितने जन्मों का
मेरा तुमसे नाता ।
59
जब अन्त इशारा हो
होंठों पर मेरे
बस नाम तुम्हारा हो।
60
जिस लोक चला जाऊँ
चाहत इतनी-सी-
तुमको ही मैं पाऊँ।
61
दीपक लाखों बाले
तेरे बिन मन से
रूठे प्यार उजाले
62
तुमको जब पाऊँगा-
पूजा क्या करना
मंदिर क्यों जाऊँगा।
63
चन्दा तुम खिल जाना
सूनी रातें हैं
धरती से मिल जाना।
64
नभ आज अकेला है
प्यासी धरती से
मिलने की बेला है।
65
जीवन में प्यास रही-
जो दिल में रहते
मिलने की आस रही।
66
बादल तुम ललचाते
आकर पास कभी
क्यों दूर चले जाते ।
67
धरती ये प्यास-भरी
बादल रूठ गए
मन की हर आस मरी।
68
तुमको पा जाऊँगी
कब तक रूठोगे
हर बार मनाऊँगी।
69
इस आँगन बरसोगे
प्यासा छोड़ मुझे
तुम भी तो तरसोगे।