भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मन तो म्हारो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुख सूं बैठी
सांसां री सागोतर नै
हेलो पाडूं कियां
लाडेसर तो लखणा रो लाडो है ई
लारै रही बबली
पण उण तो पक्कायंत ई
भाटो कोनी मारियो मोरड़ी रै
उणनै क्यूं डंडूं !

भायलो तो म्हारो है तूं
घरां आयो है जणा
अबै घड़ी भर बैठ तो सरी
आयोड़ै रो इत्तो आव-आदर तो जरूरी है
बियां अबार
मन तो म्हारो परदै कानी है
पण कांई करूं
घड़ी-अधघड़ी बात तो करणी ई पड़सी
(तूं छाती माथै ऊभो है नीं !)

-अबार तो चालूं, फेरूं आसूं
        अच्छा, नमस्कार !
-नमस्कार, भाई नमस्कार

[जावतां ई हुयो हरख अपार
आज है अदीतवार !]