भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मन री आर्ट-गैलेरी में / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थारै चेहरै माथै देखण खातर
अगूण में पसरतो उजास

आडी-टेढ़ी बातां कैवूं म्हैं
कणाई-कणाई
आ तो म्हारी आदत है

एकर फीसै तूं
मनायां मुळकै
आंसू पूंछती लुकै सीनै में
हाथां रै बीं सागी लटकै सागै
-आछी आदत है !

इणी लटकै लारै गैलो म्हैं
अजै टांग राख्यो है
मन री आर्ट गैलरी में
थारो ओ चितराम !