भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ममता / नवीन ठाकुर 'संधि'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लागै छै, प्रकृति बदली लेलकै रास्ता,
बुझावै छै, तोड़ी देलकै सब्भैं सें वास्ता।

अत्तेॅ दिन सब्भै रोॅ साथें बसल्होॅ,
आय कैन्हेॅ सब्भै सें तोहें रूसल्होॅ?

हम्में नन्हा-मुन्हा खोजै छीं, कहाँ छोॅ छिपलोॅ?
हमरा सिनी केॅ तड़पाय केॅ कहाँ छोॅ सुतलोॅ?

तनियोॅ-सा दिल में बरसावोॅ तोहें ममता
लागै छै, प्रकृति बदली लेलकै रास्ता।

जन-जन केरोॅ बदली गेलै मनसा,
आफत-विपद सें त्रसित छै हंसा,

एकेॅ दोसरा केॅ छिपी के नोचै छै,
कुकर्म करी केॅ अच्छा फोल खोजै छै।