भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मयख़ाना / ओरहान वेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: ओरहान वेली  » मयख़ाना

जब
मुहब्बत ही
नहीं रही उससे

तो
उस मयखाने में
जाऊँ ही क्यों
जहाँ पिया करता था
हर रात
उसी के ख़्यालों में गुम ?

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल