भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मर गए उन पर तो जीना आ गया / राजेन्द्र स्वर्णकार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जामे - मय आँखों से पीना आ गया
मर गए उन पर तो जीना आ गया

हाथ का पत्थर किनारे रख दिया
तब से जीने का क़रीना आ गया

गर्म मौसम की हवा जब झेल ली
तब से सावन का महीना आ गया

पाँव माँ के छू लिए हो सरनिगूं
हाथ में गोया दफ़ीना आ गया

नाम उसका जब तलातुम में लिया
मेरी जानिब हर सफ़ीना आ गया

मेरे इंसां की बुलंदी देख कर
कुछ पहाड़ों को पसीना आ गया

ज़हब -से अश्आर हैं राजेन्द्र के
लफ़्ज़-लफ़्ज़ में इक नगीना आ गया