भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मर जाऊंगा तब भी... / केदारनाथ अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मर जाऊंगा तब भी तुमसे दूर नहीं मैं हो पाऊंगा

मेरे देश, तुम्हारी छाती की मिट्टी मैं हो जाऊंगा

मिट्टी की नाभी से निकला मैं ब्रह्मा हो कर आऊंगा

गेहूँ की मुट्ठी बांधे मैं खेतों-खेतों छा जाऊंगा

और तुम्हारी अनुकम्पा से पक कर सोना हो जाऊंगा

मेर देश, तुम्हारी शोभा मैं सोने-से चमकाऊंगा