भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मश्श:ले रात एक काफ़ी है / परमानन्द शर्मा 'शरर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मश्श:ले रात एक काफ़ी है
अज़्म तो अहले-कारवाँ में हो

ढूँढ ही लेगी मेरी फ़िक्रे-रसा
तुम किसी हफ़्त आसमाँ में हो

मुझको दूरी का कुछ मलाल नहीं
गर तग़ाफ़ुल न दरम्याँ में हो

बिजलियों से मैं दिल्लगी कर लूँ
कोई तिनका तो आशियाँ में हो

मर्दे-कामल की है यही पहचान
सूद में हो न वो ज़्याँ में हो

जिसे कहते ज़ुबाँ की शीरीनी
तेरे जुमलों तेरे बयाँ में हो

शे’र कहने का फ़ायदा क्या ‘शरर’
जब न मआनी कोई बयाँ में हो