भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मसीनी जुग / गीता सामौर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आजकाल
जद लोगां सूं सुणूं-
‘मसीनी जुग आयग्यो है,
अबै मिनख रा काम मसीन करैली।’
तद सोचूं-
कांई अबै मिनखां रो जमानो गयो
अर मसीनां रो जमानो आयग्यो?
स्यात जणै ई अबै मानखो
दिनूगै सूं लेय’र सिंझ्या तांई
अर जलम सूं लेय’र मरण तांई
मसीन बण्यो भाज्यो फिरै....।