भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

महंगे है अखरोट / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहा गिलहरी ने चूहे से-
‘ले पचास का नोट,
‘टाप क्वालिटी’ के दे मुझको’
एक किलो अखरोट।‘
चूहा पंसारी यों बोला –
‘महँगे हैं अखरोट,
एक किलो यदि लेने हो तो
ला दो सौ के नोट।
       [रचना: 27 सितंबर 1996]