भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

महताऊ कवि / राजेन्द्र देथा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुण!
बखत रा महताऊ कवियां
या तो चौराऐ माथै
बिलखतां ढब्बू लियोडा़ं
टाबरां माथै हिंयों भरणियां
आखर लिख'र
कविता बणाणी छोड़ द्यौ
अर नींतर आथण रै
कवि-जलसै सूं
निकलतां थकां
रामबाग चौराए माथै
आपरी कार रा शीशा
खोल दिया करौ।