भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

महबूब-ए-मुल्क की हवा / पवन कुमार मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

महबूब-ए-मुल्क की हवा बदल रही है,
ताजीरात-ए-हिंद की दफ़ा बदल रही है ।

अस्मत लुटी अवाम की कहकहो के साथ,
और अफज़लो की सज़ा बदल रही है ।

बारूदी बू आ रही है नर्म हवाओ में,
कोयल की भी मीठी ज़बां बदल रही है ।

सुबह की हवाख़ोरी भी हुई मुश्किल,
जलते हुए टायर से सबा बदल रही है ।

सियासत ने हर पाक को नापाक कर दिया,
पंडित की पूजा मुल्ला की अज़ां बदल रही है ।

कहने को वह दिल हमीं से लगाए है,
मगर मुहब्बत की वज़ा बदल रही है ।

दुआ करो चमन की हिफ़ाज़त के वास्ते,
बाग़बानो की अब रज़ा बदल रही है ।

निग़हबानी करना बच्चों की, ऐ ख़ुदा !
दहशत में मेरे शहर की फ़ज़ा बदल रही है ।