भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

महिर जा मीहं वसाईं / मीरा हिंगोराणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सारे जॻ जा पालणहारा,
कुदरत तुहिंजा कम न्यारा,
तूंई पननि खे खड़काई,

बू/टनि खे पाणी पहुंचाई...
शल महिर जा मींह वसाईं...

करे गरीबनि जी जो सेवा,
खाए आसीसुनि जा मेवा,
ॾाणु उ/उ/नि खे ॾीं थो साईं...
शल महिरजा मींह वसाईं।

वेरु ऐं कुॿिध कदुं दिलियुनि मां,
भेद-भाव जो फर्कु मिटायूं,

देश जो मानु वधायूं साईं...
शाल महिर जा मींह वसाई...