भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माँ, जानता हूँ कि किसे बेचा तुम ने मुझे / गुन्नार एकिलोफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माँ !,
मैं जानता हूँ कि
किसे बेचा मुझे तुमने :

यह था
बहुत ऊँचा द्वार,
जिसे कहते हैं मृत्यु

वहाँ उसकी दर्पणों की दुनिया में
मैं मिला अपने आप से
मानो शिशु स्वयं का

साथ में तुम्हारे सिखाए गीत,
संग सौन्दर्य,
संग किस्से,
संग गहरी निहार,
संग दूध
संग मेरी भीगी-धाय के पसीने की गंध
उसकी बाँहों में मैं

निरापद ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुधीर सक्सेना