भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माँ का नमस्कार / मंगलेश डबराल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब माँ की काफ़ी उम्र हो गई
तो वह सभी मेहमानों को नमस्कार किया करती
जैसे वह एक बच्ची हो और बाक़ी लोग उससे बड़े।

वह हरेक से कहती — बैठो कुछ खाओ।
ज़्यादातर लोग उसका दिल रखने के लिए
खाने की कोई चीज़ लेकर उसके पास कुछ देर बैठ जाते
माँ खुश होकर उनकी तरफ देखती
और जाते हुए भी उन्हें नमस्कार करती
हालाँकि वह उम्र में सभी लोगों से बड़ी थी।

वह धरती को भी नमस्कार करती कभी अकेले में भी
आख़िर में जब मृत्यु आई तो
उसने उसे भी नमस्कार किया होगा
और अपना जीवन उसे देते हुए कहा होगा —
बैठो कुछ खाओ।