भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माँ का विलाप / काएसिन कुलिएव / सुधीर सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माँ विलाप कर रही है
अपने पायलट बेटे के लिए
कई रातों से सोई नहीं
वह ताकती रहती है घुप्प अन्धेरे में,
गो उसका बेटा लौट आएगा
गो वह हवाई-दुर्घटना में मारा नहीं गया ।

मुझे दिखाई देते हैं
एक दूसरी माँ के आँसूँ
वह भी ताकती रहती है रात के घुप्प अन्धेरे में
और बिलखती है अपने बेटे के लिए
जो मारा गया था
पाँच सहस्त्र वर्ष पूर्व रथ दुर्घटना में ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुधीर सक्सेना