भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मांयली आंख / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धूंवै अर भाप में डूब्या
छापौ छाणै हा म्हैं-
खाकी रंग जद खार खावै
गळी-गुवाड़
भागलपुर बण जावै !

उण बगत
सळां भरी चामड़ी
अर धोळा केस बोल्या-
कूड़………कूड़………साव कूड़
आंख्यां ही कठै
जिनको फोड़ी
अर जे फोड़ी ई हुवै
तो इजरज कांई
जद आंधां नै आंधा करै आंधा

ठीक है
आंख ई देखै
आंख हुवणी चाइजै
पण
आंख तो मांय चाइजै !