भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मांय तो नागा ई / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नागा जलमै सैंग
गाभा पैर परा सूधा दीसण लागै
पण
मांय तो नागा ई रैवै

घर-घर बुद्धू बक्सै रो रोग
नागी नाचै नार
नागा नाचै लोग

नागा नै नागा देखै
अर
बिना नागा देखै !