भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माटी सूखी : माटी डूबी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माटी सूखी
बादळ सूखा
साव सूखा सावण रा स्सै रंग-राग
पाणी बिना
मरै मिनख
गोठां करै गिरज-काग

बिरखा री बाट जोवती आंख्यां
      रैयगी फाटी री फाटी !

माटी डूबी
मिनख डूब्या
डूब्या सूरज-चांद
चौफेर तिरै ल्हासां
ल्हासां नै ल्हासां ई देवै खांध

बेथाग बरसी बिरखा बाळणजोगी
बची कोनी
कोई चीज कठै ई किणी जोगी !