भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मातृभाषा / रोज़ा आउसलेण्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैंने ख़ुद को कर लिया है
ख़ुद में रूपांतरित ,

पल-पल
टुकड़ों में बँटे
शब्द-पथ पर
मातृभाषा
जड़ती है
मानव पच्चीकारी II

मूल जर्मन भाषा से प्रतिभा उपाध्याय द्वारा अनूदित