भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मातृभूमि है एक स्त्री के लिए कोई पुरुष / वेरा पावलोवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मातृभूमि है एक स्त्री के लिए
कोई पुरुष
पुरुष के लिए स्त्री
एक रास्ता है सिर्फ़

कितना रास्ता तय कर चुके तुम !
थोड़ा आराम कर लो, प्रिय !

यह रही एक छाती
टिका लो अपना सर
यह रहा एक दिल
डाल लो डेरा

बराबर-बराबर बाँट लेंगे हम
दुःख के कठोर अवशेष

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल