भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मानो कि समुद्र चला मेरा पीछे / गुन्नार एकिलोफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मानो कि समुद्र चला मेरे पीछे
और उसने बाहें डाल दीं
मेरे इर्द-गिर्द

मेरे कमरे में, रात में
- जैसे कि समुद्र लिपट गया मुझसे
ध्वनियाँ इसकी बाहें

जकड़ता है मुझे समुद्र
मुझे बाँहों में भरता है

समुद्र।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुधीर सक्सेना