भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मायानन्द मिश्र / परिचय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाम- मायानंद मिश्र पित्रिनाम- पंडित श्री बबुनंदन मिश्र जन्म – बनैनिया १७-८-१९३४ ई शिक्षा- एम.ए.(हिंदी,मैथिलि) वृत्ति -अध्यापन,सहरसा कालेज ,सहरसा | रूचि – कथा-साहित्य-पाठन,भ्रमण आ आलस्य सेवन लेखनारम्भ-सन १९४८ में मैथिलिमें | पहिल रचना – हम रेल देखब (गल्प) स्कूल पत्रिका सन ४९ई. में | सन ५० ई.में ‘गीत’ बुढ़बा मिथिला मिहिर में |

प्रकाशित पोथी- जे भाग्ये प्रकाशक ताकि लेलक ,भाङक लोटा (हास्य गल्प) सन ५१ई .में, आगि मोम आ’ पाथर (गल्प संकलन, बिहाड़ी,पात आ’ पाथर (उपन्यास), खोंता आ’ चिडै (उपन्यास)दिशांतर (काव्य संकलन), जे प्रकाशक पटियाबऽ लेल व्यग्र अछी , माटिक लोक: सोनाक नाह (उपन्यास),चन्द्र-बिंदु (गल्प संकलन) एक्के बापक बेटा (रेडियो नाट्य संकलन) मैथिलि काव्य: आधुनिक काल (समीक्षा) कल्मस्थ- पुनश्च (उपन्यास) अनेक एक (उपन्यास)