भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मायावती आई तो भारत का नक्शा बदल जागा / अमर सिंह छाछिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मायावती आई तो भारत का नक्शा बदल जागा।
भारत देश सारे म्हं इसका रुक्का पड़ जागा।...टेक

देखां जन्तरी पंडित आरा पतरा हाथ म्हं लेरा।
विरोधी कह पंडत यो के कहै सै पतरा तेरा।
भाई 15 की तो जब्त जमानत 85 परसेंट जीत कै आरा।
जो ब.स.पा. तै टकरैगा वो जमानत भी ना लेरा।
होगी हार, लाखां की मार, यो खाट पकड़ जागा...

तैं साची-साच बता इबकै कुकर इनकै फंसग्या।
के बुझैगा पंडत जी मैं जिंदा ऐ मरग्या।
बैद डॉक्टर की ना लगै दवाई रोग इसा ऐ बणग्या।
बी.एस.पी. की फिरी लहर यो देश ए फिरग्या।
संविधान बदलै था बेरा तनै भी पाट जागा...

मायावती कह भाईचारै का सहारा ए हो सै।
जुग-पाटी नुकसान यो थारै ए हो सै।
जीत उसे की होगी सबका एके इशारा हो सै।
फुल बहुमत तै राज यो थारा ऐ हो सै।
बी.एस.पी. आई तो सुधार थारा भी हो जागा...

इन सरकारां नै गरीब यो पीला कार्ड म्हं रोका।
बी.एस.पी. की फिरी लहर वोट उसे म्हं ठोका।
इसकी जमानत भी बची नहीं सारै पड़ा रहा रुक्का
अमरसिंह थाम कर लो पूरे इबकै ए सै मौका
जिसकै बिराग सै इसे का वो इसे म्हं आ जागा...