भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिट्टी में मिला दे कि जुदा हो नहीं सकता / मुनव्वर राना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मिट्टी में मिला दे कि जुदा हो नहीं सकता

अब इससे ज़ियादा मैं तिरा हो नहीं सकता


दहलीज़ पे रख दी हैं किसी शख़्स ने आँखें

रौशन कभी इतना तो दिया हो नहीं सकता


बस तू मिरी आवाज़ में आवाज़ मिला दे

फिर देख कि इस शहर में क्या हो नहीं सकता


ऎ मौत मुझे तूने मुसीबत से निकाला

सय्याद समझता था रिहा हो नहीं सकता


इस ख़ाकबदन को कभी पहुँचा दे वहाँ भी

क्या इतना करम बादे-सबा हो नहीं सकता


पेशानी को सजदे भी अता कर मिरे मौला

आँखों से तो यह क़र्ज़ अदा हो नहीं सकता


सय्याद=बहेलिया, शिकारी; बादे-सबा=बहती हवा; पेशानी=माथे