भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिट्टी होगा, सोना होगा / प्रदीप कान्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिट्टी होगा, सोना होगा
कुछ ना कुछ तो होना होगा
 
नहीं उचटती नींद जहाँ पर
सपना वहीं सलोना होगा
 
पत्थर ना हो जाएँ पलकें
हँसी न हो तो रोना होगा
 
गर्द सफ़र की निकल सके भी
घर में कोई कोना होगा
 
बरखा के आसार नहीं है
बीज तो फिर भी बोना होगा