भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिट्ठाड़ी अम्मां / मीरा हिंगोराणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मूंते प्यारु लुटाए अम्मां,
खणी हंज विहारे अम्मां,

चोॼ मझांता थी चुमे अम्मां।
मूंते प्यारु...

ॾींह जो लोॾे हिंदोरे में,
लोलियूं खूबु ॿुघाए अम्मां।

छॾि तूं रुसण जी आदत पुट/,
प्यार मां इएं समझाए अम्मां।
मूंते प्यारु...

ॿुघाए कथाऊं नील/ परियुनि जूं,
उभ जी सैरु कराए अम्मां।
कड-हिं न करे कम में सुस्ती,
चुस्तु-फुर्तु रहे अम्मां।

सॼे जॻ खां आहे न्यारी,
मुहिंजी मिट्ठड़ी प्यारी अम्मां
मूंते प्यार लुटाए अम्मां।