भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मित्र से विदा लेते हुए / एज़रा पाउंड

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नगर प्राचीरों के उत्तर में नीले पहाड़
सफ़ेद नदी उनमें मँडराती हुई;
यहाँ हमें विदा लेनी है
और मुरझाई घास से हो कर
हज़ार मील जाना है।

तैरते हुए चौड़े बादल की तरह मन,
सूर्यास्त जैसे पुराने मित्रों का बिछुड़ना
जो दूर से अपने हाथ जोड़े नमन करते हैं।
हमारी विदाई के समय
हमारे घोड़े एक-दूसरे से हिनहिनाते हैं।

(ली पो)

अँग्रेज़ी से अनुवाद : नीलाभ