भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मिनख रो उणियारो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऊगतै अर आथमतै
सूरज री लालासी देखतां-देखतां
बीतग्या बरस केई
मिनख रो उणियारो
हाल बियां ई
साव फीको
अर ललासी-बायरो है ।