भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रुलाकर चल दिए इक दिन / शैलेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रुला कर चल दिये इक दिन
हँसी बन कर जो आये थे
चमन रो-रो के कहता है
कभी गुल मुस्कुराये थे

अगर दिल के ज़ुबां होती तो
ग़म कुछ कम तो हो जाता
उधर वो चुप इधर सीने में
हम तूफ़ां छुपाये थे
चमन रो-रो के कहता है ...

ये अच्छा था न हम कहते
किसी से दास्तां अपनी
समझ पाये न जब अपने
पराये तो पराये थे
चमन रो-रो के कहता है ...