भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिले हैं जिससे वही निकला दिल का काला है / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिले हैं जिससे वही निकला दिल का काला है
यहाँ कहाँ कोई ईमां पे चलने वाला है

दिलो-दिमाग़ में उसके ही तो उजाला है
जवान रुत में भी किरदार जिसका आ'ला है

बताया जिसने भी अपनी उदासियों का सबब
उसी, उसी ने सरे-आम इसे उछाला है

करे है याद समन्दर को ज़िन्दगी के लिए
ये तशनःकाम बशर भी बहुत निराला है

न छीन ले कोई रंजो-अलम जो उसने दिए
हज़ार खुशियों की क़ीमत पे इनको पाला है

ये कैसा दौर है आया कि जिसमें हर मासूम
सियासी साज़िशों का बन रहा निवाला है

न डाले फिर कोई दहशत में इसको ऐ 'दरवेश'
धड़कते दिल को किसी तौर अब सँभाला है