भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिस्त्री / एस० जोसेफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक मिस्तरी के साथ गया था काम पर

दोपहर को खाने के बाद
बैठा पुआल पर जानवरों के कोठे में

अधपके केले को कुतर र्हीएक चिडिया
क्या उसे पकड़ लूँ अभी
एक पीला पत्ता पपीते के पेड़ से टूट कर गिरा
मैं एक पिपहरी बना सकता हूँ इसी से

शाम को तड़ी के ठेके पर बैठा मिस्तरी बोला
-तू तो किसी काम का नहीं रे

हर चीज़ में घपला करता
जाने क्या सोचता
खड़ा का खड़ा रह जाता है
हथौड़ा माँगा तो कुदाल थमा दी
गारा मँगवाया तो ईंट उठा ली
लोहे का तसला उठाए
खो जाता है जाने कहाँ

मिस्तरी जी तो चल बसे पिछले दिनों
मेरी स्मृति में बसी है अभी तक
केले पर चोंच मारती वह चिड़िया
और बचा है पपीते का पत्ता वही

अनुवाद : राजेन्द्र शर्मा