भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिस्र में हुस्न की वो गर्मी-ए-बाज़ार कहाँ / इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मिस्र में हुस्न की वो गर्मी-ए-बाज़ार कहाँ
जिंस तो है पे ज़ुलेखा सा ख़रीदार कहाँ

फ़ैज़ होता है मकीं पर न मकाँ पर नाज़िल
है वही तूर वले शोला-ए-दीवार कहाँ

ऐश ओ राहत के तलाशी हैं ये सारे बेदर्द
एक हम को है यही फ़िक्र कि आज़ार कहाँ

इश्क़ अगर कीजिए दिल कीजिए किसी से ख़ाली
दर्द ओ ग़म कम नहीं इस दौर में ग़म-ख़्वार कहाँ

क़ैदी उस सिलसिला-ए-ज़ुल्फ़ के अब कम हैं ‘यक़ीं’
हैं दिल-आज़ार बहुत जान-गिरफ़्तार कहाँ