भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुक़ाबला / रतन सिंह ढिल्लों

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चाँदनी रात में
खेत की
मुरमुरी, सकरीली मिट्टी पर
मुक़ाबला होता था कबड्डी का
अभ्यास होता था कुश्ती का
और
अज़माइश होती थी शक्ति की ।
 
यह कैसा मुक़ाबला है
जो अँधेरे खेत की
जंगली मिट्टी पर होता है
और खेत
पसीने की जगह
तर होते हैं गरम ख़ून से ।
 
यह कैसा मुक़ाबला है
जिसे रात के बहरे कान सुनते है
पेड़ों और तारों की
बंद और ख़ामोश आँखें देखती हैं ।
 
मूल पंजाबी से अनुवाद : अर्जुन निराला