भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुक़ाम इक इन्तहाये-इश्क़ में ऐसा भी आता है /सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुक़ाम इक इन्तहाये-इश्क़ में ऐसा भी आता है।
ज़माने की नज़र अपनी नज़र मालूम होती है।

कोई उलफ़त का दीवाना, कोई मतलब का दीवाना।
यह दुनिया सिर्फ़ दीवानों का घर मालूम होती है॥

जो मुमकिन हो, जगह दिल में न दे दर्दे-मुहब्बत को।
घड़ी भर की ख़लिश फिर उम्र भर मालूम होती है॥