भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुकाफात / नून मीम राशिद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अदम वजूद के मा-बैन फ़ासला है बहुत
ये फ़ासला हमें इक रोज़ तय तो करना है
वो किश्‍त-ए-गुल हो के हम बोएँ राह में काँटे
कोई भी फ़ेल हो पर एक दिन तो मरना है
हमारे पीछे हैं वो भी हमें अज़ीज़ हैं जो
इसी तरफ़ से उन्हें एक दिन गुज़रना है
सबा-बुरीदा भी गुल है वफ़ा गुज़ीदा भी दिल
ये बात जे़हन में रखनी है और डरना है
किसी ने पहले लगाए थे साया-दार षजर
इन्हीं की छाँव में बैठे हैं आज हम आ कर