भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मुक्ति / लीना मल्होत्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारी नज़र जब अपनी आँखे छोड़ के मेरी आँखों तक पहुँचती है
तो रास्ते का कोई अवरोध उसे रोक नहीं पाता
बिना व्यवधान कूद लगाती है मेरी आँखों में और
हिमालय की चोटी की स्लाईड से फिसलते हुए
गिरती है सीधा मेरे दिल पर

तभी एक ध्यान घटित होता है
एक निर्दोष झूम उठती है
आवारा आत्मा सिर झुकाए शामिल होती है इन नर्तकों की टोली में
कुछ संभावित ध्वनियाँ बिना जन्म लिए
इस सृष्टि में फैले नाद में घुल मिल जाती हैं
और मै उड़ने लगती हूँ मुक्त होकर