भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुक्त बंधन / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन की रिक्तता को, न जाने क्यूँ
एक अजीब से ख़ालीपन से
भरने की कोशिश करता रहता हूँ

अपने दिल के केनवास पे
न जाने क्यूँ
बिना रंगो के
कुछ ना कुछ उकेरता रहता हूँ

पुकारता रहता हूँ
न जाने क्यूँ
बेजुबान-सा
किसी को बुलाने की कोशिश में

देखता रहता हूँ, न जाने क्यूँ
शून्य में
अपनी आँखों को बंद किए

कोई आहट-सी होती है
इन शोर शराबों के जंगल में
न जाने किसे महसूस करता रहता हूँ

कोई तो है
जो मुझमें जागता रहता हैं
जो बाँधे हुए है मुझे, मुक्त करके।