भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

मुझे अब वे पराया कहने लगे / धीरेन्द्र अस्थाना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेरुखी इस कदर बढ़ गयी हमसे ,
मुझे अब वे पराया कहने लगे  !

बाद मुद्दत के ज़ुबां पे आयी,
जो ये शिकस्त की कहानी ,
फासले जो दरमयां करने लगे...

बेरुखी इस कदर बढ़ गयी हमसे ,
मुझे अब वे पराया कहने लगे !

साथ निभाने की खाकर कसमे,
बात आयी जब रस्मे निबाह की
हाले मुफलिसी बयाँ करने लगे...

बेरुखी इस कदर बढ़ गयी हमसे ,
मुझे अब वे पराया कहने लगे !

ज़िन्दगी जीना तो एक तकल्लुफ था
तजुर्बे हवादिश का जब ज़िक्र हुआ ,
राह-ए-गुजर को जाया कहने लगे ...

बेरुखी इस कदर बढ़ गयी हमसे ,
मुझे अब वे पराया कहने लगे !