भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझे अब वे पराया कहने लगे / धीरेन्द्र अस्थाना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बेरुखी इस कदर बढ़ गयी हमसे ,
मुझे अब वे पराया कहने लगे  !

बाद मुद्दत के ज़ुबां पे आयी,
जो ये शिकस्त की कहानी ,
फासले जो दरमयां करने लगे...

बेरुखी इस कदर बढ़ गयी हमसे ,
मुझे अब वे पराया कहने लगे !

साथ निभाने की खाकर कसमे,
बात आयी जब रस्मे निबाह की
हाले मुफलिसी बयाँ करने लगे...

बेरुखी इस कदर बढ़ गयी हमसे ,
मुझे अब वे पराया कहने लगे !

ज़िन्दगी जीना तो एक तकल्लुफ था
तजुर्बे हवादिश का जब ज़िक्र हुआ ,
राह-ए-गुजर को जाया कहने लगे ...

बेरुखी इस कदर बढ़ गयी हमसे ,
मुझे अब वे पराया कहने लगे !