भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझे छोड़ने दो / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छोड़ देने का
यह अधिकार मेरा
रहने दो मेरे पास।
मत थोपो
मुझ पर यह दुनिया
और
दुनिया की दुनियादारी
यह सारी व्यवहारिकता
यह छीना झपटी।
मुझको मैं रह जाने दो बस।
मुझे छोड़ने दो
वह सब
जो मिला है तुमसे,
जानबूझकर
या अनजाने।
हो वह चाहे प्रेम
घृणा, अपमान
या कि यशगान तुम्हारा
नहीं चाहिए।
मुक्त करो बस,
और नहीं कुछ अब दे देना
मुझे छोड़ने दो वह सब
जो मिला है तुमसे।
मुझको मैं रह जाने दो बस।