भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझे जगाओ / जोवान्नी राबोनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जगाओ, मुझे जगाओ
हो सकता है मैं अब भी
सो रहा हूँ
बुढ़ापे में देख रहा हूँ सपने

मेरी मदद करो
अश्लील अन्धेरे पर पड़ा
झूठ साफ़ करो

अचानक एक हाथ आएगा
छुएगा मेरे जमे हुए बदन को
और मैं पहचान जाऊँगा
कि मैंने ही उसे बुलाया था

और फिर
मैं गुज़र जाऊँगा

रूसी से अनुवाद : अनिल जनविजय