भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझे तुमसे प्यार है / नाज़िम हिक़मत / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे तुमसे प्यार है
रोटी में नमक लगाकर उसे खाने की तरह

तेज़ बुखार के साथ
रात में जग उठने के बाद
नलके से मुँह लगाकर पानी पीने की तरह

डाकिये से भारी पैकेट लेकर
खोलने की तरह
जब पता न हो कि उसके अन्दर क्या है

फ़ड़फ़ड़ाते हुए,
ख़ुश और शक़ से भरा
मुझे तुमसे प्यार है

पहली बार हवाई जहाज़ से समन्दर के ऊपर उड़ने की तरह
अन्दर कुछ घुटते रहने की तरह
जब इस्ताम्बूल में आहिस्ते से अन्धेरा छाने लगे

मुझे तुमसे प्यार है
अपने जीने के लिए
ख़ुदा का शुक्रगुज़ार होने की तरह ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य