भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझे नहीं पता / रोज़ा आउसलेण्डर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नहीं पता मुझे
दिन किस तरह
बदल जाता है
शून्य में
रात
शून्य में I

दिन और रात
नहीं पता मुझे
कहाँ से कहाँ तक
है शून्य

उससे
सृजन करती हूँ मैं
संसार
गति का
और
अमन का II


मूल जर्मन भाषा से प्रतिभा उपाध्याय द्वारा अनूदित