भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुझे शान्तिपूर्ण तरीके में यक़ीन नहीं / निकानोर पार्रा / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझे हिंसक तरीके में यक़ीन नहीं
मैं चाहता हूँ किसी चीज़ में
मुझे यक़ीन हो — लेकिन ऐसा है नहीं ।

यक़ीन का मतलब
भगवान में यक़ीन है

मैं इतना ही कर सकता हूँ कि
अपने कन्धे उचकाऊँ
खरी-खोटी बातों के लिए ख़ुद को माफ़ कर दूँ
 
मुझे तो
आकाशगँगा में भी यक़ीन नहीं ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य